Ek dard chupa hai sineme

by Hardik Patel (@Funclub) Friday, May 13, 2016


इक़ दर्द छुपा हो सीने में, तो मुस्कान #अधूरी लगती है,

जाने क्यों बिन तेरे, मुझको हर शाम #अधूरी लगती है,

कहनी है तुमसे दिल की जो, वो बात #जरुरी लगती है,

तेरे बिन मेरी गज़लों में , हर बात #अधूरी लगती है,

दिल भी तेरा हम भी तेरे, एक आस #जरुरी है,

अब बिन तेरे मेरे दिल को, हर सांस #अधूरी लगती है,

माना की जीने की खातिर, कुछ आन ,#जरुरी लगती है,

जाने क्यों,"मन"को तेरे बिन, ये शान #अधूरी लगती है,